शिक्षा संवाद – लोकसभा चुनाव के पूर्व राजनीतिक दलों व प्रत्याशियों के साथ

बेसिक शिक्षा मंच का राज्यस्तरीय कार्यक्रम – बेसिक शिक्षा व्यवस्था की बेहतरी की जरूरतों पर जनप्रतिनिधियों एवं राजनीतिक दलों के साथ शिक्षा संवाद

शिक्षा अधिकार कानून लागू होने के चार वर्ष बीतने वाले हैं परन्तु इसके समुचित क्रियान्वयन के लिए मजबूत राजनैतिक इच्छा शक्ति का अभाव दिख रहा है। आगामी लोकसभा चुनाव के पूर्व राजनैतिक पार्टियों एवं प्रत्याशियों को संवेदित करने का बेहतर अवसर है। इस क्रम में बेसिक शिक्षा मंच पहल कर रहा है। ‘मांगों के मसौदे’ को तैयार कर के कई राजनैतिक पार्टियों को दिया गया है। इस प्रयास को पूरे राज्य में व्यवस्थित रूप से बढ़ाने के लिए एक राज्यस्तरीय कार्यक्रम 17-18 फरवरी 2014 को बेसिक शिक्षा मंच, अभिभावक मंच एवं लोकमित्र के साझा प्रयास से जवाहर लाल नेहरू यूथ हास्टल, लखनऊ में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के 35 जिलों से परिषदीय स्कूलों के विद्यालय प्रबंध समिति के सदस्य, अध्यक्ष, प्राथमिक विद्यालयों के अध्यापक, स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि मिलाकर लगभग 120 लोगों ने प्रतिभाग किया।

कार्यक्रम के पहले दिन विभिन्न प्रमुख प्रतिभागियों का समूह राजनीतिक पार्टियों के कार्यालयों में जाकर मांगो के मसौदे को दिया उन्हें अगले दिन शिक्षा संवाद के लिये आमंत्रित किया । कार्यक्रम के दूसरे दिन दिनांक 18 फरवरी को शिक्षा संवाद में सभी प्रमुख पार्टियों के प्रदेश प्रभारियों को बुलाया गया और मांगो के मसौदे पर चर्चा हुयी। आम आदमी पार्टी के जिला संयोजक (लखनऊ) श्री अनमोल जी, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री हऱद्वार दुबे, कांग्रेस पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री ओंमकार सिंह ने समर्थन व्यक्त करते हुये लोकसभा चुनाव के पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल करने का आश्वासन दिया। 

कार्यक्रम के अन्त में यह तय किया गया कि प्रदेश के अधिकांश जिलों में अभिभावक मंच के मध्यम से सभी बच्चों के लिये बेहतर शिक्षा की मांग को राजनीतिक पार्टियों और प्रत्याशियों तक पहूंचाया जायेगा।

Appeal to LokSabha Contestants and Parties by Basic Shikcha Manch Feb 2014